Boons

एक बून (वर्धन या वरदान) एक प्रार्थना के जवाब में अर्जित आशीर्वाद है। वरदान और श्राप का विचार प्राचीन पौराणिक कथाओं, विशेष रूप से ग्रीक, रोमन, केल्टिक, भूमध्य और हिंदू पौराणिक कथाओं में पाया जा सकता है।

सभी पौराणिक कथाओं में, शाप और वरदान एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। तपस्या करने से, सभी को देवताओं (तपस्या) से आशीर्वाद प्राप्त हो सकता है। यदि ऋषि या भगवान नाराज हो गए तो आपको भी दंडित किया जा सकता है।

कुछ उदाहरण: भगवान शिव अपने पुत्र विनायक (गणपति) को वरदान देते हैं कि वे हमेशा सभी के समक्ष पूजे जाएंगे, जो सभी वरदानों (प्रथमपूज्य) के लिए सबसे प्रसिद्ध हैं।

भारतीय पौराणिक कथाओं में वरदान महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। विभिन्न प्रकार के प्रसिद्ध वरदान भगवान ब्रह्मा से संबंधित हैं।

हिंदू मान्यता के अनुसार, एक वरदान एक "ईश्वरीय आशीर्वाद" है जो एक हिंदू भगवान या देवी और अन्य दिव्य प्राणियों द्वारा प्रदान किया जाता है जो हेवेंस में रहते हैं। वरदान भी हिंदू संतों या उनके वंशजों द्वारा दिए जा सकते हैं जिन्होंने कठोर अनुशासन, तपस्या, पवित्रता और अन्य गुणों का पालन किया।

जयद्रथ की पूरी कहानी (जयद्रथ) सिंधु कुंगडोम का राजा

कौन हैं जयद्रथ? राजा जयद्रथ सिंधु के राजा, राजा वृदक्षत्र के पुत्र, दशला के पति, राजा ड्रितस्त्रस्त्र की एकमात्र बेटी और हस्तिनापुर की रानी गांधारी थीं।

होली दहन, होली अलाव

होलिका दहन क्या है? होली एक रंगीन त्योहार है जो जुनून, हंसी और खुशी का जश्न मनाता है। त्योहार, जो हर साल फाल्गुन के हिंदू महीने में होता है